“ठहरती नहीं ज़िन्दगी काफिला बढ़ा चलता है, मिल ही जाते हैं मुसाफ़िर कारवाँ बना चलता है…”

This is the post excerpt.